Raw thoughts for Poetry

Please baat karo esse kuchh nahi hone wala abb

Aap ko pata baki logo ne apne personal email addreess bhi sanjha kiye

ek aap hai saare hakk hote huye bhi baat nahi karte


तुम्हारे दिल की heartbeat का इतना आदी हो चूका हूँ

100BPM से तेज़ तो piano भी नहीं वजा पाता

100 इस लिए लिखा

प्यार में तो जितना maximum हो सके भागता ही है दिल तो

Morning chuckles

I am so used ti hearing your heartbeat

Can not play piano faster than 100 BPM

A normal resting heart rate for adults ranges from 60 to 100 beats per minute

घर से निकला 1 किलोमीटर पर पहली पुलिस की गाड़ी देखकर घर वापस चला जाता हूँ।

अपने शहर के सरकारी तन्तर पर भरोसा ही कहाँ।

जो मर्ज़ी कहानी fabricate कर दें। यह वहम नाज़ायज़ भी नहीं

जब भी तेरा दीदार होवेगा

झल दिल का बीमार होवेगा

किसी भी जनम आकर देख लेना

तुम्हारा ही इंतज़ार होवेगा

आज पिआनो Backyard में ही ले जानी है

-- शिव कुमार बटालवी ਸ਼ਿਵ ਕੁਮਾਰ ਬਟਾਲਵੀ

लाला जी लाला जी कैसे हैं गोपाला जी

गुस्सा अपना छोड़ दीजिए क्र दीजिए ज़रा उजाला जी

आईए बैठ परवार के साथ पीजिए चाय का प्याला जी

कयों करते हो इतना संदेह सीधे साधे बन्दे पर

साफ़ हूँ दिल से हिस्टरी देखो कीया ना कोई घोटाला जी

कयों पूजें पथर की मूरत इनसान में रब्ब है अगर

जीते जागते धड़कते दिल को बना दें नया शिवाला जी


ज़मीं पे ढूंढता हूँ आसमां पे ढूढ़ता हूँ

चारों दिशाओं में जाता हूँ मैं

तुम्हे मैं पूरे जहाँ में ढूढ़ता हूँ।

चाँद पे जाता हूँ , मंगल पे जाता हूँ

जाने तुम्हे कहाँ कहाँ ढूढ़ता हूँ।

सरदी हो तो धुप में ढूढंता हूँ

गर्मी हो तो जाकर छाँव में ढूढंता हूँ।

बैठे हो तुम मेरे दिल में बस कर

जाने तुम्हे क्यों जहाँ वहाँ ढूढंता हूँ।

--- अमरीक बिरहड़ा

बुधु कह लो , कमअकल कह लो

और जो भी मन में आए कह लो

बस बेवफ़ा मत कहना

पूरा थक टूट कर ही वापस लौटता हूँ

जब साँस फूलने लगती है

प्यास हद से ज्यादा लगती है

तब तक तो पानी साथ में होता है

पर पीने का समय नहीं होता

15 - 20 किलोमीटर तो खली साईकल चलाया होगा

3 -4 पार्क जाया करता था।

अब सिर्फ एक ही पार्क जाता था रोज़ाना

पता website पर Post करने के बाद